धान खरीदी के मुद्दे पर छत्तीसगढ़ के साथ केंद्र कर रही सौतेला व्यवहार, कांग्रेस ने लगाया आरोप 5 से करेंगे आंदोलन

रायपुर| केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ कांग्रेस के आंदोलन की रूपरेखा तैयार करने रविवार को राजीव भवन में छत्तीसगढ़ कांग्रेस की बैठक आयोजित हुई। बैठक खत्म होने के बाद सीएम भूपेश बघेल ने मीडिया से बातचीत में केन्द्र की मोदी सरकार के खिलाफ जमकर हमला बोला। उन्होंने धान खरीदी को लेकर केन्द्र सरकार को जमकर निशाना साधा। सीएम भूपेश ने छत्तीसगढ़ के धान को खरीदने से इनकार करने के मुद्दे पर केन्द्र सरकार को किसान विरोधी बताया। उन्होंने कहा कि भारत सरकार और राज्य सरकारों के बीच एक एमओयू हुआ था, उसमें दिए गए नियमों को शिथिल किया गया था। जिसके तहत किसानों को धान का बोनस दिया जा सकता है। मुख्यमंत्री भूपेश ने कहा कि इसके लिए ही हमने केंद्र से अनुरोध किया था, मैंने प्रधानमंत्री से इस सम्बंध में मिलने के लिए वक्त भी मांगा है। इतना ही नहीं मैंने खुद भी प्रधानमंत्री को पत्र भी लिखा है। केन्द्र सरकार पर दबाव बनाने के लिए प्रदेश के सभी जनप्रतिनिधियों और किसानों से भी पीएम को पत्र लिखने आग्रह किया है। उन्होंने प्रदेश के सांसदों से भी धान खरीदी को लेकर पीएम को पत्र लिखने के लिए कहा है। सीएम भूपेश ने बताया कि इसी मुद्दे को 5 नवंबर को सांसदों की मंत्रालय में बैठक भी बुलाई है। ताकि वह भी इस सम्बंध में चर्चा कर सके। कांग्रेस बैठक में शामिल होने के लिए रायपुर पहुंचे पार्टी प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया ने भी केन्द्र सरकार की नीतियों को लेकर जमकर हमला बोला। पुनिया ने धान खरीदी के मुद्दे पर छत्तीसगढ़ के साथ केंद्र सरकार द्वारा सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा, देश में अर्थव्यवस्था की हालत बद से बदतर होती जा रही है। महंगाई और बेरोजगारी दिन प्रतिदिन बढ़ती जा रही है। कांग्रेस आंदोलन की जरिए केंद्र सरकार के खिलाफ जनता के गुस्से का जगह-जगह इजहार करेगी। बतादें कि कांग्रेस का यह आंदोलन 5 से 15 नवंबर तक प्रस्तावित है। बैठक में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, पीसीसी चीफ मोहन मरकाम, प्रदेश प्रभारी पीएल पुनिया सहित प्रदेश कांग्रेस के तमाम आला नेता बैठक में मौजूद हैं।


Tags

cm bhupesh baghel latest news top 10 news

Related Articles

81989.jpg

More News

81989.jpg